मेरी सेक्स चैट दोस्त नयना की चूत चुदाई की कल्पना


(Meri Sex Chat Dost Naina Ki Chudai Ki Kalpna)

हैलो फ्रेंड्स, मेरा नाम राहुल है और मैं जयपुर का रहने वाला हूँ. मैं हमेशा जब भी फ्री रहता हूँ, हिंदी में देसी सेक्स स्टोरी जरूर पढ़ता हूँ. मुझे सेक्स स्टोरी पढ़ने के बाद लगता है कि मुझसे कोई लड़की सेक्स क्यों नहीं करती है. जबकि मुझमें कोई कमी भी नहीं है. मैं 5’10″ का स्मार्ट हैंडसम लड़का हूँ और किसी भी लड़की को सेक्स में संतुस्ट करने में एकदम सक्षम हूँ. लेकिन मुझे लगा कि मेरे पास लड़कियों को पटाने की हिम्मत नहीं है. मुझे एक डर सा लगा रहता था कि कहीं कोई लड़की मुझे मना ना कर दे वरना मेरा दिल टूट जाएगा.

मेरी उम्र 27 साल है, मैं एकदम हट्टा कट्टा जवान लड़का हूँ. जब मैं छोटा था, तब से किसी लड़की के साथ सेक्स करने का सपने देखा करता था. मैंने बहुत सारी सेक्स बुक्स पढ़ी हैं और क्सक्सक्स मूवी भी देखी हैं. मैं एक ही सपना देखा करता था कि काश इस लड़की के साथ मैं सेक्स कर रहा हूँ. लेकिन सपनों को सच होने में कई साल लगे.

ये मेरी पहली सेक्स स्टोरी है और अब आपके सामने है. जल्दी ही मेरी और भी सेक्स स्टोरी आपके सामने आने वाली हैं तो मेरी इस सेक्स स्टोरी एन्जॉय कीजिएगा.

मेरी ये सेक्स स्टोरी एकदम सच्ची है, जो आप लोगों को एकदम अपने करीब लगेगी.

मैं पिछले 5 सालों से चैटिंग कर रहा हूँ लेकिन कोई लड़की मुझसे पटती ही नहीं थी. सब लड़कियों को सेक्स चैट तक ही पसंद था, जो मुझे एकदम पसंद नहीं था. तभी एक दिन एक चमत्कार हुआ. एक बहुत अच्छी लड़की मेरी दोस्त बन गई. वो अमेरीका में रहती थी और एक इन्डियन थी. उसका नाम नैना था, वो दिल्ली की रहने वाली थी और बहुत सुन्दर और स्मार्ट लड़की थी. वो इतनी सुन्दर थी कि जब मैंने कैम में उसको फर्स्ट टाइम देखा तो देखता ही रह गया और कब मुझे वो पसंद आने लगी, मुझे पता तक नहीं चला.

वो 33 साल की एकदम बेहद सेक्सी शरीर की मालकिन थी. उसके 3 बच्चे थे लेकिन कहीं से भी वो 3 बच्चों की माँ नजर नहीं आती थी. जब वो स्टाइलिस्ट कपड़े पहन कर कैम के सामने आती थी तो दिल करता था कैम से निकाल कर इसे चोद दूँ. लेकिन ये सब नामुमकिन था.

हम दोनों को बातें करते हुए 6 महीने हो गए. फिर एक दिन उसने कहा- मैं अपने पति से और बच्चों से खुश नहीं हूँ. पूरे टाइम अकेले घर में पढ़ती रहती हूँ. मुझे कोई समझने वाला नहीं, बस तुम मुझे समझ सके, मैं तुमसे प्यार करने लगी हूँ और मैं सपने देखती हूँ कि तुम मुझे खुश कर रहे हो.
मैंने पूछा- वो कैसे?
तो वो बोली- तुमने मुझे रात सपने में खूब चोदा और मुझे एकदम खुश कर दिया.

उसके मुँह से ये सब सुन कर मेरी हिम्मत बढ़ गई.

मैंने कहा- मैंने तुम्हारे साथ सपने में और क्या किया?
तो उसने कहा कि तुम बहुत सेक्सी हो. मैं रात में अपने नाइट गाउन में सोई हुई थी.. एकदम अकेले, तुम मेरे रूम में आए और मेरे पास आकर लेट गए. मैं उस वक्त बहुत गहरी नींद में थी. तुम मेरे गाउन के अन्दर हाथ डाल कर मेरे मम्मों को मसलने लगे. तुमने देखा कि मेरी नींद नहीं खुली तो तुम मेरे एक चूचे को मुँह में लेकर चूसने लगे और दूसरे को दबाने लगे. मैं मदहोश होने लगी और मेरी नींद टूट गई. तुम एकदम सकपका गए लेकिन डरे नहीं और मम्मों को दबाते रहे. तुम्हें मजा आ रहा था.

मैंने भी कहा- हाँ मुझे चूचे चूसना बहुत पसंद है.. और वो भी बड़े बड़े.. वैसे तुम्हारे कितने बड़े हैं?
तो वो शरमा कर बोली- तुम यकीन नहीं करोगे.
मैंने कहा- बोलो तो..
तब उसने कहा- मेरे 40 डी साइज़ के हैं.
मैंने कहा- डी का मतलब?
तो वो बोली- यहाँ यूएसए में ऐसे ही साइज़ चलते हैं लेकिन तुम इतना जान लो ये बहुत बड़े होते हैं.

बस अंधे को क्या चाहिए, दो आँखें.

मैं बहुत खुश हो गया. मैंने कहा- फिर आगे..
तो उसने कहा कि तुम बहुत शैतानी कर रहे थे, तुमने एकदम से मेरा गाउन पूरा खोल दिया और मैं तुम्हारे सामने एकदम नंगी लेटी थी. तुम बहुत गरम हो गए थे और तुम्हारी साँसें बहुत तेज़ चलने लगी थीं.

उसकी बातें सुनकर मुझे बहुत मजा आ रहा था और मैं सोच भी रहा था कि काश ये सब सच में हो जाये.

फिर उसने कहा कि तुम मेरे पूरे बदन पर जबरदस्त किस करने लगे.. ऊपर से लेकर नीचे तक.. फिर तुम मम्मों को छोड़ कर मेरी चुत में अपने मुँह को लेकर चले गए और अपनी जुबान से मेरी चुत को प्यार करने लगे. मैं एकदम मदहोश होने लगी और गरम होने लगी. मुझे फर्स्ट टाइम किसी ने चुत पर जुबान से प्यार किया था. फिर मैंने भी तुम्हारे सारे कपड़े निकाल दिए और तुम अब मेरे सामने एकदम नंगे खड़े थे. मैंने झट से तुम्हारे लंड को अपने हाथ में लेकर उसको अपने हाथ से हिलाने लगी. फिर कुछ देर बाद मैं मुँह में डाल कर लंड चूसने लगी. तुम बहुत बेताब होने लगे तो मैंने कहा कि मेरे राजा अब तो दिखा दे अपनी रानी की चुत पर अपने लंड का कमाल.

मैं उसकी काल्पनिक बातें सुनकर सोच में पड़ गया कि जो लड़की इतने दिन तक एकदम चुप सी रह कर कम बातें करती थी, आज एकदम बोल्ड कैसे हो गई. वो भी मेरे सपने देख कर?

उसने कहा कि फिर तुम मेरे ऊपर आ गए और अपने 6″ के लंड को मेरी चुत में रख कर जोर का झटका दे दिया, मैं चिल्ला पड़ी कि राहुल धीरे डालो.. ज्यादा बेताबी मत करो.. क्या मेरी चुत फाड़ ही डालोगे? तो तुमने कहा कि हाँ रानी अपने लंड का कमाल जो दिखाना है.. और तुम जोर जोर से धक्के मारने लगे.. मैं दर्द से छटपटाने लगी लेकिन तुमने जरा भी रहम नहीं किया. ऐसा लग रहा था जैसे तुम कई जन्म से प्यासे हो और सारे कुंए का पानी एक ही बार में पी डालोगे. तुमने लगभग 5 मिनट तक ऐसे ही मेरे ऊपर जमकर चुदाई की, फिर तुम रूक गए. जैसे लगा कि तुम्हारा पानी निकलने वाला हो. मैंने पूछा तुम रूके क्यों जालिम.. तो तुमने कहा कि अब तुम मेरे ऊपर आओ.
‘फिर?’

फिर तुमने पूछा कि क्या मुझे ऊपर चढ़ कर चुदाई करवाना बहुत पसंद है. मैंने हामी भरते हुए फ़ौरन तुम्हारे लंड के ऊपर बैठ गई. अब मैं राजा बन गई और तुम मेरी रानी थे. अब सब कुछ मेरे हाथ में था. मैंने तुम्हारी जम के चुदाई शुरू कर दी. कुछ ही मिनट हुए थे कि तुम जोर से बोल पड़े आह… मेरा पानी आने वाला है. तो मैंने कहा मेरी राहुल रानी मेरी चुत में ही सब पानी आ जाने दो.. और अगले ही पल तुम्हारा गरम गरम पानी मेरी चुत में निकल गया, लेकिन तुम्हारा लंड अभी तक सख्त था और एकदम लोहे की रॉड की तरह गरम मेरी चुत में घुसा हुआ था. मैंने नीचे से लगातार तुम्हारी चुदाई करने में लगी रही.

मैं उसकी इस रंगीन कहानी से गर्म हो गया था. उसकी बातों को मन्त्रमुग्ध होकर आत्मसात किये जा रहा था. मैंने उससे पूछा- फिर?
उसने कहा कि फिर करीब दो मिनट बाद मेरा पानी भी निकल गया, लेकिन तुम जब तक फिर से गरमा गए और तुमने मुझे डॉगी बना कर मेरे पीछे से आकर मेरी गांड में अपना थूक डाला और लंड को घुसेड़ने की कोशिश करने लगे. लेकिन तुम्हारा लंड अन्दर नहीं जा सका, तब तुमने मेरी गांड में तेल लगाया और फिर एक जोर का झटका मारा तो तुम्हारा थोड़ा सा लंड मेरी गांड के अन्दर चला गया. मैं बहुत जोर से चिल्लाई ‘आहाह जालिम.. साले ने मार डाला.. सच में मुझे बहुत दर्द होने लगा था, ब्लड तक आ गया था लेकिन तुम एकदम जालिम बन गए थे. तुमने मुझे चोदना नहीं छोड़ा, मेरे दर्द की परवाह तक नहीं की.. उलटे तुमने बोला कि यह दर्द तो कुछ देर का है, तो फिर जन्म भर का मजा आना है. बस तुम अपने काम में लगे रहे, कुछ देर दर्द रहा भी.. पर फिर मुझे बहुत मजा आने लगा था.

‘ओह्ह.. तुमने तो मुझे एकदम गरम कर दिया. इसके बाद क्या हुआ?’
‘इसके करीब 10 मिनट के बाद तुम्हारा पूरा पानी मेरी गांड में निकल गया. तुम एकदम पसीने पसीने हो रहे थे. फिर तुम कुछ देर मेरे ऊपर ऐसे ही लेटे रहे.’
मुझे उसकी कल्पना सुन कर सच में बहुत अच्छा लग रहा था. मैं सोच रहा था कि काश ये सपना सच हो जाए.
मैंने उससे पूछा कि क्या तुम सच में मेरे साथ सेक्स करना पसंद करोगी?
तो वो बोली- हाँ जालिम.. वरना मैं तुम्हें अपना ये सपना क्यों सुनाती.

बस दोस्तों यहाँ से मेरे अच्छे दिन शुरू हो गए.

मैंने पूछा- तुम भारत कब तक आ रही हो?
तो वो बोली- मेरे राजा बस एक वीक और इन्तजार कर लो.. फिर हम दोनों हमेशा के लिए एक हो जाएंगे.

साथियो, अब मुझे उसके इंडिया आने का इन्तजार है. जैसे ही उसकी चुत चोदने को मिलेगी, मैं आपको अपनी चुदाई की कहानी लिख दूंगा.


Online porn video at mobile phone